“अयोध्या में रामलला के कपाट: भीड़ के चलते 1 बजे खोले गए, सत्येंद्र दास का कहना – ‘अयोध्या त्रेतायुग जैसी लग रही'”

अयोध्या में रामलला के कपाट

अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के बाद मंदिर में आम लोगों का दर्शन मंगलवार 23 जनवरी से शुरू हो गया है। रात 3 बजे से ही दर्शन करने के लिए बहुत से लोग आए। रामलला को देखने के लिए बहुत से राज्यों से लोग आए हैं।

मंदिर के गेट खुलते ही लोग अंदर जाने की होड़ लगा दी। लोग घबरा रहे हैं। शुरुआत में भीड़ प्रशासन को बेबस नजर आई। रैपिड एक्शन फोर्स (RAF) ने भीड़ को नियंत्रित किया। अब दर्शकों को छोटे-छोटे समूहों में भेजा जाता है।वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज सुबह अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक वीडियो पोस्ट किया, जिसमें उनकी प्राण प्रतिष्ठा दिखाई दी है। PM ने लिखा, “हम कल यानी

22 जनवरी को अयोध्या में देखा गया दृश्य आने वाले कई सालों तक हमारी स्मृति में रहेगा। मुख्य पुजारी सत्येंद्र दास ने बताया कि अयोध्या वर्तमान में त्रेतायुग की तरह दिखती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 22 जनवरी को रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के बाद 11 दिन का उपवास शुरू किया। गोविंद गिरि ने मोदी को जल पिलाकर उनका व्रत तोड़ा। मोदी ने उपवास शुरू किया तो गोविंद देव भावुक हो गए। “मुझे ऐसा लगा, जैसे मैं अपने बेटे की मदद कर रहा हूँ, जो देश का हीरो है और अपना उपवास तोड़ रहा है,” उन्होंने कहा।मोदी ने प्राण प्रतिष्ठा के लिए 11 दिन का अनुष्ठान किया था, जो 22 जनवरी को समाप्त हुआ।

गोविंद देव ने कहा, हमने सोचा कि मोदी को शहद और दो बूंद नींबू का मिश्रण मिलाकर पानी पिलाया जाएगा। लेकिन कल, यानी 22 जनवरी, ही उन्होंने कहा कि मुझे सिर्फ भगवान राम का चरणामृत पिलाना चाहिए था। यह बात उन्होंने मुझे सुनाई। इसके बाद हमारी रणनीति बदल गई। मां की ममता मेरे मन में जागी। मैंने सोचा कि मैं देश के महानायक की मदद कर रहा हूँ, जो आज अपना व्रत पूरा कर रहा है।’

भक्तों की भीड़ के चलते समय से पहले ही अयोध्या के कपाट खुले हैं,

भक्तों की भीड़ के चलते समय से पहले ही अयोध्या के कपाट खुले हैं,

जहां रामलला को देखने के लिए बहुत लोग आते हैं। रामलला के शयन के लिए दो बजे तक पट बंद थे, लेकिन भक्तों के दर्शन के लिए एक घंटे पहले यानी एक बजे ही पट खोल दिए गए। मंदिर के अंदर अब दर्शनार्थियों को जत्थे में भेजा जाता है।

अयोध्या में उमड़ी भीड़ को नियंत्रित करने के लिए काफी सुरक्षाबलों को तैनात किया गया है। सुरक्षाबल इस बात का भी ध्यान रख रहे हैं कि सड़क के एक तरफ श्रद्धालु रहें, दूसरी तरफ से यातायात जारी रहे। लोगों में रामलला दर्शन का जोश है। चारों तरफ जय श्री राम के नारे गूंज रहे हैं।

श्रीराम मंदिर तीर्थ क्षेत्र के मुख्य पुजारी सत्येंद्र दास ने कहा- प्राण प्रतिष्ठा होने के बाद गर्भगृह एक दिव्य रूप में दिखाई पड़ रहा है। ऐसा लगता है कि जब त्रेतायुग में भगवान राम विराजमान हुए थे, जिस तरह की उस समय व्यवस्था थी, वो बहुत आनंदित करने वाला था। त्रेतायुग की झलक इस समय भी देखने को मिल रही है। अयोध्या में भक्तों का समूह उमड़ पड़ा है। जय श्री राम के लग रहे नारे त्रेतायुग की अयोध्या की याद दिला रहे हैं। जितने लोग पहले दिन दर्शन की चाह लिए हुए हैं, सभी लोग आज दर्शन नहीं कर पाएंगे। कल भी, दो-चार दिन ऐसा ही चलेगा, क्योंकि भारी भीड़ है। मंदिर विलक्षण है, अयोध्या राममय हो गई है।

दर्शन के लिए लोगों को छोटे-छोटे ग्रुप में भेजा जा रहा है

रामलला के दर्शन के लिए हजारों लोगों की भीड़ उमड़ी है। लोग किसी भी तरह भगवान के दर्शन करना चाह रहे हैं। व्यवस्था न बिगड़े, इसलिए लोगों को छोटे-छोटे ग्रुप में भेजा जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्राण प्रतिष्ठा का वीडियो अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर किया। उन्होंने लिखा- हमने कल यानी 22 जनवरी को अयोध्या में जो देखा, वह आने वाले कई सालों तक हमारी यादों में अंकित रहेगा।

Read more
read

Shares:
Post a Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *