अदाणी विद्या मंदिर भद्रेश्वर के 600 छात्रों ने लिया 25,000 से अधिक पौधे लगाने का संकल्प

अदाणी फाउंडेशन द्वारा संचालित स्कूल ने अपना 12वां वार्षिक दिवस, संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) को समर्पित किया

मुंद्रा, 6 मार्च, 2024: एक अनोखे कार्यक्रम के तहत अदाणी विद्या मंदिर, भद्रेश्वर (एवीएमबी) के छात्रों ने अपने 12वें वार्षिक दिवस ‘उत्कर्ष’ को संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) के लिए समर्पित किया। इस अवसर पर, 600 छात्रों ने अगले तीन वर्षों में स्कूल परिसर और बाहर, जिसमें तट क्षेत्र पर मैंग्रोव भी शामिल हैं, के साथ 25,000 से अधिक पौधे लगाने का संकल्प लिया।

“उत्कर्ष” के माध्यम से, छात्रों ने रचनात्मक तरीके से प्रकृति के साथ सद्भावपूर्वक रहने के विभिन्न पहलुओं को उजागर किया। यह कार्यक्रम पर्यावरण और जल संरक्षण, व्यंग लेखों, गानों व कविता पर वर्किंग मॉडल्स के जरिए, सभी 17 एसडीजी के मुख्य बिंदुओं और महत्व को प्रदर्शित करने का प्लेटफार्म साबित हुआ। एसडीजी के लिए जागरूकता, स्कूल द्वारा संवेदनशील और महत्वपूर्ण पाठों को एकीकृत करने पर ध्यान केंद्रित करने के एक हिस्से के रूप में है, जिसमें छात्रों को देश और दुनिया के जिम्मेदार नागरिक बनाने के लिए मोरल और वैल्यू एजुकेशन भी शामिल है।

शिक्षकों द्वारा सावधानीपूर्वक आयोजित किए गए इस कार्यक्रम में मेहमानों को तटीय जैव विविधता के संरक्षण के महत्व के बारे में जागरूक किया गया। कच्छ, जो अपने कलरफुल ट्रडिशन्स और उत्सवों के लिए जाना जाता है, क्लाइमेट चेंज के दवाब में एक नाजुक इकोसिस्टम का सामना कर रहा है।

इस अवसर पर अदाणी फाउंडेशन की अध्यक्ष डॉ. प्रीति अदाणी ने छात्रों को अपनी शुभकामनाएं भेजीं। उन्होंने कहा, “हमारे युवा छात्रों द्वारा ली गई यह प्रतिज्ञा हमारे ग्रह के प्रति उनकी संवेदनशीलता और प्रतिबद्धता का प्रमाण है। मुझे गर्व है कि हमारे स्कूल भविष्य के इन लीडर्स के अंदर इस तरह के व्यावहारिक मूल्यों की स्थापना कर रहे हैं।”

कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में पहुंचे, मुंद्रा के एसडीएम, श्री चेतन मिसन ने कहा, ” मैं इन बच्चों के प्रदर्शन को देखकर मैं मंत्रमुग्ध हूं। मैं इस अवसर पर स्कूल को बधाई देता हूं और आशा करता हूं कि स्कूल इसी प्रकार ज्ञान का प्रकाश फैलाना जारी रखेगा।”

इस कार्यक्रम के मुख्य अथिति रहे अदाणी समूह के सीएफओ श्री जुगेशिंदर सिंह (रॉबी), स्कूल की आधुनिक सुविधाओं और बच्चों द्वारा खासकर उच्च शिक्षा, नीति चर्चाओं और व्यापार जगत में चर्चित रहने वाले विषयों पर प्रदर्शित ज्ञान से काफी प्रभावित हुए। उन्होंने कहा, “मैं यहां उपस्थित होकर और इन प्रतिभावान बच्चों से बातचीत करके सम्मानित महसूस कर रहा हूं। मुझे विश्वास है कि ये सभी बच्चे जीवन में बहुत तरक्की करेंगे और बदले में अपने परिवार, समुदाय और हमारे महान देश की मदद करेंगे।”

उत्कर्ष 2024 में कच्छ क्षेत्र के नेतागण, मछुआ समुदाय के सदस्य, माता-पिता और अन्य विशिष्ट अतिथि शामिल हुए।

अदाणी फाउंडेशन के बैनर तले, एवीएमबी 2012 से गुजरात के कच्छ क्षेत्र में, विशेष रूप से मछुआरों सहित सामाजिक-आर्थिक रूप से वंचित समुदायों के बच्चों, जो अक्सर पहली पीढ़ी के छात्र होते हैं, को मुफ्त शिक्षा प्रदान कर रहा है।

ये स्कूल गुजरात स्टेट एजुकेशन बोर्ड (जीएसईबी) से जुड़ा हुआ है और पहली से दसवीं कक्षा तक मुफ्त शिक्षा प्रदान करता है। इसमें स्कूल फीस, किताबें, यूनिफॉर्म और पौष्टिक भोजन शामिल हैं। 2022 में, यह एनएबीईटी से मान्यता प्राप्त करने वाला पहला जीएसईबी एफिलिएटेड गुजराती मीडियम स्कूल बन गया है। हाल ही में,
एवीएमबी को वंचित बच्चों को शिक्षित करने में उनके असाधारण योगदान के लिए “एजुकेशन एक्सीलेंस – एम्पॉवरिंग इंडिया अवार्ड 2024” से सम्मानित किया गया है।

Shares:
Post a Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *