अदाणी टोटल गैस ने बायोगैस प्रोजेक्ट में शुरू किया उत्पादन

संक्षिप्त जानकारी
अदाणी टोटलएनेर्जीज बायोमास लिमिटेड (एटीबीएल) ने अपने बरसाना प्लांट के चरण 1 से सीबीजी का उत्पादन शुरू किया है।
चरण 1 के स्टेबिलाइजेशन के बाद, यह लगभग 225 टन प्रतिदिन एग्रीकल्चर वेस्ट और गोबर को प्रोसेस करेगा और 10 टन प्रतिदिन सीबीजी का उत्पादन करेगा।

पराली जलाने से प्रदूषण को कम करने के अलावा, यह इको-फ्रेंडली बायो-सीएनजी और ऑर्गेनिक फर्टिलाइजर पैदा करेगा।
अहमदाबाद, मार्च 31, 2024: अदाणी टोटल एनेर्जीज बायोमास लिमिटेड (एटीबीएल) ने बताया कि उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले में स्थित अपने बरसाना बायोगैस प्लांट के फेज 1 का संचालन शुरू कर दिया है।
यह प्लांट माताजी गौशाला के परिसर में स्थित है। बरसाना बायोगैस प्रोजेक्ट में तीन प्रोजेक्ट चरण हैं, जिसमें पूर्ण कमीशनिंग के पश्चात 600 टन प्रतिदिन (टीपीडी) फीडस्टॉक की कुल क्षमता प्राप्त होगी, जिससे 42 टन प्रतिदिन से अधिक कंप्रेस्ड बायो गैस (सीबीजी) और 217 टन प्रतिदिन ऑर्गेनिक फर्टिलाइजर का उत्पादन होगा। यह प्लांट चरण 3 में पूर्ण डिजाइन क्षमता तक पहुँचने पर, भारत का सबसे बड़ा एग्री-वेस्ट आधारित बायो-सीएनजी प्लांट होगा। बरसाना बायोगैस प्लांट के तीनों प्रोजेक्ट चरणों की प्रोजेक्ट लागत 200 करोड़ रुपये से अधिक होगी।


यह एटीबीएल की पहली सीबीजी उत्पादन सुविधा है और हरित भविष्य की ओर इसकी यात्रा में एक महत्वपूर्ण माइलस्टोन है। एडवांस एनारोबिक डाइजेशन टेक्नोलॉजी का उपयोग करके, यह प्लांट ऑर्गेनिक पदार्थों को रिन्यूएबल बायो गैस में परिवर्तित करता है, जिससे ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन और जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता को काफी कम किया जाता है, साथ ही राष्ट्र के ईंधन सुरक्षा और उत्सर्जन में कमी के लक्ष्यों को पूरा करने में भी मदद मिलती है।

बरसाना बायोगैस प्रोजेक्ट के चालू होने के मौके पर, एटीजीएल के ईडी और सीईओ सुरेश पी मंगलानी ने कहा, “हम सस्टेनेबल एनर्जी प्रोडक्शन में योगदान करने के अपने प्रयास को सामने लाने के लिए उत्साहित हैं। बरसाना बायोगैस प्लांट आने वाली पीढ़ियों के लिए एक स्वच्छ, अधिक टिकाऊ दुनिया बनाने के लिए पूरी तरह से रिन्यूएबल रिसोर्सेज का लाभ उठाने की प्रतिबद्धता को आगे बढ़ा रहा है। कंप्रेस्ड बायो गैस (सीबीजी) के उत्पादन के अलावा, यह प्लांट उच्च गुणवत्ता वाले ऑर्गेनिक फर्टिलाइजर का उत्पादन करता है, जो सर्कुलर इकॉनमी सिद्धांतों और एग्रीकल्चर सस्टेनेबिलिटी में योगदान देता है। सीबीजी उत्पादन की स्थापना और शुरूआत हमारे प्रमोटर्स, अदाणी समूह और टोटल एनेर्जीज द्वारा सीबीजी जैसी रिन्यूएबल एनर्जी में निवेश करके, व्यापक सस्टेनेबिलिटी लक्ष्यों को प्राप्त करने की दिशा में एक कदम है। अदाणी समूह और टोटल एनेर्जीज का लक्ष्य वैश्विक स्तर पर लो-कार्बन इकॉनमी के बदलाव में महत्वपूर्ण भूमिका निभाना है।“

Shares:
Post a Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *